Wednesday 15 October 2008

वकील

वकील करते प्रार्थना, कलम चले सरपट्ट,
भाई-भाई में चलें, चाकू-गोली-लट्ठ।

चाकू-गोली-लट्ठ, मवक्किल भागे आएँ,
उनकी पाकिट मेरी पाकिट में आ जाएँ।

केस लड़े वर्षों तक, कोई टरे नटारे,
हारे सो मर जाय, और जीते सो हारे।

0 comments:

Similar Posts