Monday 25 August 2008

ऐनक - सागर खैय्यामी

एक रोज़ हम से कहने लगी एक गुलबदन
ऐनक से बाँध रखी है क्यों आप ने रसन
मिलता है क्या इसी से ये अंदाज़-ऐ-फ़िक्र-ओ-फन
हम ने कहा की ऐसा नहीं है जनाब-ऐ-मन
बैठे जहाँ हसीं हों एक बज्म-ऐ-आम में
रखते हैं हम निगाह को अपनी लगाम में

1 comments:

dayanidhi said...

saagar sahab ka anddaj-e-bayan hi nirala tha. jab wo bolte the to sunne walon ko maza aa jata tha

Similar Posts