Wednesday 16 July 2008

पॉपुलर मेरठी - २

अजब नहीं है जो तुक्का भी तीर हो जाए
पते जो दूध तो फिर वोह पनीर हो जाए
मवालियों को न देखा करो हिकारत से
न जाने कौन सा गुंडा वजीर हो जाए

0 comments:

Similar Posts